Adsense se low earning hone ke big Reasons hindi

1
8

Adsense se low earning hone ke big Reasons hindi

Adsense se low earning hone ke big Reasons हैं कि google Adsense cost पर click पर काम करता है ओर adsens cpc ऊपर नीचे होती रहती है।

लेकिन कुछ बड़े कारणों की बजह से Adsense advertisement से कमाई कम होती है और cpc $0.02 तक पहुच जाती है.
आज में आपको Adsense से कम earning होने के कुछ महत्वपूर्ण कारण बता रहा हूँ..
आप इनका उपयोग करके अपनी कमाई को fix कर सकते है.ADSENSE CPC,RPM और CTR boost और अपनी साइड पर adsense Revenue Increase कर सकते हो

बहुत से blogger लोग Adsense se low earning होने की बजह से परेशान है और बहुत से blogger की अच्छी कमाई न होने के कारण AdSense को अलविदा कह चुके है..
पर इसका सबसे बड़ा कारण होता है हमारे google Adsense के बारे में सही जानकारी का न होना जिसके बारे में हमे basis जानकारी तक नही होती है ओर ऐसे में हम अपनी मंजिल तक पहुँचने में असफल रहते है

में काफी blogger देख चुका हु पर वो लोग Adsense से अच्छी कमाई नही कर पा रहे है और मुझे पूरा भरोसा है कि जो में बताने जा रहा हूँ जिससे आपकी कम earning वाली समस्या slove हो जाएगी.

यहाँ पर बताये गये कारणों को आप अपनी गलती की नजर से भी देख सकते हैं आपको इन गलतियो को सुधरना है तभी आप Google Adsense से अच्छी कमाई कर सकते है

इन 6 कारण से google Adsense se low earning होती है।

में पहले ही adsens earning increase करने के बारे में artical लिख चुका हूँ आप एक बार हमारे adsens category वाले artical जरूर पड़ ले

1. You Don’t Have Enough Traffic:

मेने कई बार देखा है कि new adsens publisher को earning करने की जल्दी लगी रहती है ओर जैसे ही उसका Adsense appoved हो जाता है वो सबकुछ छोड़ कर सिर्फ adsense से कमाई करने के बारे में सोचना सुरु कर देता है.ऐसा मेने बहुत से लोगों के साथ देखा है यह एक बहुत बड़ी गलती है और किसी भी blogger के blogging career को समाप्त कर सकती है।
जब आपके पास traffic ही नही है तो आपके add पर click कैसे होंगे लगभग 100 daily traffic तक adsense से अच्छी कमाई के सपने मत देखो 5000 traffic होने के बाद ही आप adsense से अच्छी कमाई कर सकते हो..और सबसे पहले आपको contents लिखने है ओर blog की traffic बढ़ाने पर ध्यान देना है

जब आपके bolg पर ज्यादा traffic होगा तब आपकी click दर CTR भी अच्छी होगी avrege CTR तो बताना मुश्किल है पर 5300 ट्रैफिक होन पर adsense CTR 1.5 se 3% हो सकती है इसका मतलब आप को पहले कुछ traffic की जरूरत है अगर आपके पास अच्छे visitor है तो ही आप adsenses से पैसे कमा सकते हैं।

अगर आपके पास कम traffice पर adsenses से ज्यादा कमाई करनी है तो आप हमारी कम ट्रैफिक पर google adsense से अधिक कमाई कैसे करें पोस्ट चेक करें और इसमें बताये गए traffice से आपकी परेशानी दूर हो जाएगी।
लेकिन नियम यही है की adsenses कम कमाई की प्रॉब्लम को 100% जड़ से खत्म करने के लिए आपकी साइट पर ट्रैफिक होना जरूरी है

2. You’re Write on Low Paying Niche:

google adsenses कम कमाई का यह भी सबसे बड़ा कारण हो सकता है आप जिस niche पर bloggeing करते हो. हो सकता है उस पर adsenses कम pay करता हो जब आप कम paying niche पर content write करोगे तो साधारण है कि आपके content पर low paying ad show होगे।
जिनकी CPC बहुत ही कम होती है
उदाहरण,,, गेम एक ऐसा खेल है जिस पर google adsenses बहुत ही कम pay करता है और 1 से $0.3 ही मिलता है पर कुछ web besed game पर high हो सकती है पर लेकिन mostly ये niche low paying ही होता हैं game site पर adsenses अच्छी कमाई करना बहुत ही मुश्किल है
अगर आप एक game bloge करते है तो आपको परेशान होने की जरूरत नही है आप amazon,flipcart जैसे कुछ Affiliate marketing program join कर अपनी कम
कमाई की problam को slove कर सकते है affiliate program भी google adsenses की तरह bloging से कमाई करने का सबसे अच्छा तरीका है अगर आप नही जानते bloge पर affiliate program से कमाई कैसे की जाती है ओर आप इस बारे में जानना चाहते है तो आप हमारी affiliate markiting के आधार पर लिखी हुई पोस्ट देख सकते है

3. Your Ad Units Have Low Click Through Rate:

मेने पहले ही बताया था की adsenese pay पर click पर काम करता है
ओर हर site पर contents पर click through दर के अनुसार ad show करता है अगर आपकी site पर high paying ads नही दिखाए जाते है तो यह भी कम कमाई का सबसे बड़ा कारण हो सकता है
इन साधारण शब्दो मे कहु तो जब आपकी साइट पर दिखने वाले ads पर कोई click नही करता तो आपकी click through rate कम हो जाती है और फिर google आपकी site par high paying ads show करने की जगह low paying show करने लग जाता है।

adsenses से अच्छी कमाई के लिए आपकी site पर CTR का better होना जरूरी हैं इसके लिए आपको कुछ जरूरी बातो का ध्यान रखना होगा ।

Read This – Google Adsense में CTR क्या है Click through Rate Increase कैसे करे

Follow below steps and solve your low earnings problem:
1.Choose best ad sizes.
2.Site par per page 2 – 3 ad unit से ज्यादा ऐड न करें
3. जिस जगह पर क्लिक कम मिलते हैं वहां से ऐड को हटा दें।
4.High impressions और low clicks वाले   ads को हटा दें.
Adsense CTR increase करने लिए आप page 2/3 ads unit से ज्यादा प्रयोग न करे
जिस स्थान पर आपको कम click मिलती है बहा से ads ko remove and right place पर ad लगाए

Adsense ad placement सही से करे और best ad size के ad unit इस्तेमाल करे mosly ये size best होते है कभी भी एक से जादा 300×600 या कोई ओर लगे साइज़ का ads इस्तेमाल न करे ओर हो सकें तो large ads इस्तेमाल करने से बचें, क्यू की ये load होने में समय लेता है

Responsive ad unit (Recommended)
● 730×250 – Medium Rectangle
● 336×280 – Large Rectangle
● 468×60 – Banner Ads
● 728X90 – Leaderboard
● 970×250 – Billboard
बेसे में इस आधार पर कई artical लिख चुका हूँ ओर मुझे इसके बारे 1 में ज्यादा बताने की जरूरत नही है।

अगर आपको कम earning की problam slove करनी है तो आपको adsenses ads किस स्थान पर लगाना better होता है किस size के ads से अच्छी कामयाबी मिलती है.
Per page कितने लगाना ads lagana better है.

4.AdSense policy violation की जानकारी होना बहुत जरूरी है.

.Your Experiment with Ad Style:
Google AdSense default style generally अच्छा काम करती है पर इसे अपनी site के desing के अनुसार चेंज कर लिया जाए तो हमे bettet परिणाम मिल सकते है।
Some new AdSense publisher की ये 2 सबसे बडी गलती हो सकती है
★ Ad style feature का इस्तेमाल करना
★ Ad style feature का इस्तेमाल कर के ads को site content में ही मिला देना
मेने बहुत से bloger को देखा है जब उन्हें ads style का पता नही होता वो simple
ओर default ads इस्तेमाल करते है मगर जैसे ही उन्हें इनके बारे में थोड़ी जानकारी मिलती है वो बिना कुछ सोचे ads को इतना desing kar देते है कि वो उनके blog content में ही मिल जाते है।
लेकिन ये दोनों तरीके गलत है google चाहता है कि उस ad को ad समझ कर ही click करे so ad staly ko इतना customize करो कि वो आपके content से mach ना हो ओर usser को आसानी से पता चल सके कि ad क्या hai और content क्या है इसके अलावा भी ads style features को इस्तेमाल करने की और भी जानकारी है जिन्हें आप follow कर सकते हैं
coustmize your ad unit style
Border को यूज न करें
URL का कलर काला रखें
लिंक का कलर आपके कांटेक्ट के लिंक के कलर के हिसाब से होना चाहिए
contents और ads मैं कम से कम 10 से px का अंतर होना चाहिए
एक यूनिट पर बॉर्डर का इस्तेमाल न करें हो सके तो URL कलर ब्लैक ही रखें एडमिन का कल आप अपने कोंटेक्ट लिंक से मैच करके रख सकते हैं मोस्टली इमेज टेक्स्ट एंड यूनिट का ही इस्तेमाल करें कॉन्टेंट और ऐड यूनिट में 10 से 20 पिक्सल का स्पेस रखें।

5. make sure your all ads work correctly.

यह गूगल एडसेंस मॉर्निंग का सबसे बड़ा रीजन है और लगभग 70% new pubilisher से यह मिस्टिक होती है बहुत से लोगों को काफी टाइम से Low earning की प्रॉब्लम होती है लेकिन बो कभी चेक नहीं करते कि उनकी साइट पर ऐडसेंस ads प्रॉपर वर्क कर रहे हैं या नही
Actually, आपके blog की temlate या आपके worang ad placemant की बजह से ad unit सही से काम नही कर पाता आपको ये check करना होगा पता करना होगा की आपकी site की सही ad यूनिटunit आपके ad पर सही काम
कर रही है या नही mostly आपको ये प्रॉब्लम हो सकती है
★ Your ad don’t work good all devices.
★ Your ad don’t show proper.
★ Your ad show slowly.
★ Your ad don’t fit with content.
सबसे बड़ी समस्या है कि ad का सही devices में प्रोपर काम नही करना
आपको ये अच्छे से चेक कर लेना चाहिए की आपकी साइट पर adsense ad computer,leptop,teblet,mobile और अन्य डिवाइस से सही  ओपन होते है या
नही इसके लिए आप अपनी site को different device में ओपन कर के देख सकते है। जिससेे आप Adsense se low earning कम बाली समस्या से बच सकते हैं।

6. सबसे अच्छा Ad size मेरे लिए कौन सा रहेगा?

आपके इस सवाल का जवाब भी मेरे पास है इसके लिए आप गूगल analysis का इस्तेमाल करें जो आपको बताएगा कि आपके लिए किस साइज का ad better रहेगा सबसे पहले आप गूगल Adsense को गूगल analysis से connect करें उसके बाद Google analysis को open करें और यह step follow करें.

Go to analytics >> Audience >> overview and select Screen Resolution and see results: यहां पर आपके सामने वह सभी स्क्रीन साइज दिखाई देंगे दिन में आपकी साइट Open की जाती है

Google एनालिसिस की रिपोर्ट से आप easily पता कर सकते हैं कि आपकी साइट सबसे ज्यादा किस साइज की स्क्रीन वाले डिवाइस में open होती है अब आपको यह बताने की जरूरत नहीं है कि आप किस साइज़ का ad इस्तेमाल करना चाहिए मेरे हिसाब से इतना तो हर कोई blogger समझ सकता है कि उसे किस साइज़ की ऐड लगाने हैं
इसलिए आप एक यूनिट को टारगेट करें और सभी ऐड यूनिट की परफॉर्मेंस को चेक करते रहें कि सभी एट यूनिट प्रॉपर काम कर रहे हैं या नहीं इसलिए आप कस्टम चैनल और यूआरएल चैनल का इस्तेमाल कर सकते हैं
Finally low Adsense earning के यह 5 बड़े कारण हैं जिनकी वजह से आपकी earning बहुत कम हो जाती है i sure अगर आप इन 5 प्रॉब्लम को सॉल्व कर लेंगे तो आपके ऐडसेंस का रेवेन्यू बढ़ जाएगा यह पोस्ट आपको पसंद आए तो आप हमारे Adsense related और भी पोस्ट पढ़ सकते हैं।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here